परीक्षा देने से पहले इन 30 महत्वपूर्ण प्रश्नों का कर लें अध्ययन

UPTET Child Development Questions : उत्तर प्रदेश प्रशिक्षण परीक्षा नियामक 28 नवंबर को यूपीटीईटी की परीक्षा आयोजित करने वाला है, ऐसे में इसके लिए आयोग ने एडमिट कार्ड जारी कर दिया है। यूपीटेट परीक्षा में सफल होने के लिए उम्मीदवार तैयारियों में जुटे हैं।

ऐसे में आज हम इस लेख के जरिए आपको बाल विकास विषय से ये 25 महत्वपूर्ण प्रश्नों से अवगत कराएंगे, जो इस साल यूपीटीईटी की परीक्षा में आ सकते हैं। इसके अलावा आप इन बाल विकास प्रश्नों का अभ्यास करके अपनी तैयारी को और भी मजबूत बना सकते हैं।

UPTET Child Development Questions

UPTET परीक्षा बाल विकास प्रैक्टिस सेट – 30 प्रश्न

1. यदि शिक्षक कक्षा में एक छात्र को समस्यात्मक बालक के रूप में पाता है, तो उसे

  • तत्काल घर वापस भेज देना चाहिए
  • बच्चे को नजरअन्दाज कर देना चाहिए
  • बच्चे को दण्ड देना चाहिए
  • बच्चे को परामर्श देना चाहिए

उत्तर : 3

2. पाठ्य सहगामी क्रियाएँ मुख्यतः सम्बन्धित है

  • छात्रों के मानसिक विकास से
  • छात्रों के सर्वांगीण विकास से
  • शैक्षिक संस्थानों के विकास से
  • छात्रों के वृत्तिक विकास से

उत्तर : 3

3. निम्न में से किसने अधिगम सिद्धान्त का प्रतिपादन नहीं किया ?

  • थार्नडाइक
  • स्किनर
  • कोहलर
  • बी.एस. ब्लूम

उत्तर : 2

4. शिक्षा में अवरोधन का तात्पर्य है।

  • किसी बालक का एक वर्ष से अधिक समय तक एक ही कक्षा में रहना में
  • बालक का विद्यालय न जाना
  • बालक का विद्यालय में प्रवेश न लेना
  • बालक द्वारा विद्यालय छोड़ देना

उत्तर : 2

5. निम्न में से किस कौशल में पूर्व ज्ञान का परीक्षण आता है ?

  • प्रदर्शन कौशल
  • प्रस्तावना कौशल
  • उद्दीपन-परिवर्तन कौशल
  • समापन कौशल

उत्तर : 1

6. निम्न में किस सिद्धान्त को पुनर्बलन का सिद्धान्त भी कहते हैं ?

  • क्रिया प्रसूत अनुबन्धन सिद्धान्त
  • उद्दीपक अनुक्रिया सिद्धान्त
  • शास्त्रीय अनुबन्धन सिद्धान्त
  • सूझ का सिद्धान्त

उत्तर : 3

7. निम्न में से कौन-सी अवस्था बनर के संज्ञानात्मक विकास सिद्धान्त का अंग नहीं है ?

  • क्रियात्मक अवस्था
  • प्रतिबिम्बात्मक अवस्था
  • आन्त प्रज्ञ अवस्था
  • संकेतात्मक अवस्था

उत्तर : 2

8. निम्न में से क्या समावेशी कक्षा में शिक्षक की भूमिका नहीं है ?

  • शिक्षक को सीखने में अक्षम को अतिरिक्त समय देना चाहिए
  • शिक्षक को निःशक्त बच्चों पर ध्यान नहीं देना चाहिए
  • बच्चे की आवश्यकता के अनुरूप बैठने की पर्याप्त व्यवस्था करनी चाहिए
  • शिक्षक को बच्चों को प्रोत्साहित करना चाहिए।

उत्तर : 1

9. निम्न में से कौन-सा संज्ञानात्मक क्षेत्र से संबंधित नहीं है ?

  • ज्ञान
  • अनुप्रयोग
  • अनुमूल्यन,
  • बोध

उत्तर : 1

10. निम्न में से कौन-सा अधिगम का वक्र नहीं है ?

  • उन्नतोदर (उत्तल)
  • मिश्रित
  • नतोदर
  • लम्बवत्

उत्तर : 2

11. ‘व्यवहार के कारण व्यवहार में परिवर्तन ही अधिगम है’ यह किसने कहा है ?

  • क्रो एण्ड क्रो
  • गिलफर्ड
  • बुडवर्थ
  • स्किनर

उत्तर : 3

12 . बच्चे की वृद्धि मुख्यतः सम्बन्धित है

  • नैतिक विकास से
  • सामाजिक विकास से
  • शारीरिक विकास से
  • भावात्मक विकास से

उत्तर : 4

13. समस्या समाधान का प्रथम चरण है

  • परिकल्पना का निर्माण
  • समस्या की पहचान
  • आँकडा संग्रहण
  • परिकल्पना का परीक्षण

उत्तर : 1

14. बालकों का अधिगम सर्वाधिक प्रभावशाली होगा जब (

  • शिक्षक अधिगम प्रक्रिया में आगे होकर बालकों को निष्क्रिय रखेगा ।
  • बालकों का संज्ञानात्मक, भावात्मक तथा मनोचालक पक्षों का विकास होगा।
  • पढ़ने-लिखने एवं गणितीय कुशलताओं पर ही बल होगा।
  • शिक्षण व्यवस्था एकाधिकारवादी होगी।

उत्तर : 2

15. स्मृति स्तर एवम् बोध स्तर के शिक्षण प्रतिमान की संरचना में कौन-सा सोपान उभयनिष्ठ है ?

  • तैयारी
  • अन्वेषण
  • सामान्यीकरण
  • प्रस्तुतीकरण

उत्तर : 4

16. मानव विकास का प्रारम्भ होता है।

  • शैशवावस्था से
  • पूर्व- बाल्यावस्था से
  • गर्भावस्था से.
  • उत्तर बाल्यावस्था से

उत्तर : 4

17. ‘द कंडीशन्स ऑफ लर्निंग’ पुस्तक के लेखक है

  • आई. पी. पावलव
  • ई.एल. थार्नडाइक
  • बी. एफ. स्किनर
  • आर.एम. गेने

उत्तर : 1

18. ” किशोरावस्था बड़े संघर्ष, तनाव, हमला व विरोध की अवस्था है।” यह कथन किसका है ?

  • क्रो एण्ड क्रो
  • स्टेन्ले हॉल
  • जरशील्ड
  • सिम्पसन

उत्तर : 4

19. सूक्ष्म शिक्षण के भारतीय प्रतिमान में कुल कितना समय लगता है ?

  • 30 मिनट
  • 40 मिनट
  • 36 मिनट
  • 45 मिनट

उत्तर : 3

20. “सीखने का पठार सीखने की प्रक्रिया के मुख्य अभिलक्षण हैं जो उस स्थिति को प्रकट करते हैं जिसमें सीखने की प्रक्रिया में कोई उन्नति नहीं होती।” यह कथन किसका है ?

  • स्किनर
  • हालिंगवर्थ
  • गेट्स व अन्य
  • रॉस

उत्तर : 1

21. कक्षा में छात्रों को प्रश्न पूछने के

  • अनुमति नहीं देनी चाहिए
  • प्रेरित करना चाहिए
  • हतोत्साहित करना चाहिए
  • रोक देना चाहिए

उत्तर : 1

22. “विकास कभी न समाप्त होने वाली प्रक्रिया है।” यह कथन विकास के किस सिद्धान्त से सम्बन्धित है ?

  • निरन्तरता का सिद्धान्त
  • एकीकरण का सिद्धान्त
  • अन्त:क्रिया का सिद्धान्त
  • अन्त सम्बन्ध का सिद्धान्त

उत्तर : 4

23. संविधान के किस संशोधन से शिक्षा एक मौलिक अधिकार बन गयी है ?

  • 22 वें संशोधन
  • 25 वें संशोधन
  • 86 वें संशोधन
  • 52 वें संशोधन

उत्तर : 1

24. अभिप्रेरणा के मूल प्रवृत्ति सिद्धान्त के प्रतिपादक थे

  • विलियम जेम्स
  • मैक्डूगल
  • अब्राहम मैस्लो
  • सिम्पसन

उत्तर : 2

25. विकास की किस अवस्था को कोल तथा ब्रूस ने “संवेगात्मक विकास का अनोखा काल” कहा है ?

  • किशोरावस्था
  • शैशवावस्था
  • बाल्यावस्था
  • प्रौढ़ावस्था

उत्तर : 4

26. किसने बहुविमात्मक प्रज्ञा का प्रत्यय दिया ?

  • गार्डनर
  • स्पीयरमैन
  • गोलमैन
  • जॉन मेयर

उत्तर : 1

27. डिस्लेक्सिया में यह करने में कठिनाई होती है

  • बोलने में
  • व्यक्त करने में
  • पढ़ने / वर्तनी में
  • खड़े होने में

उत्तर : 2

28. “विकास कभी न समाप्त होने वाली प्रक्रिया है।” यह कथन विकास के किस सिद्धान्त से सम्बन्धित है?

  • एकीकरण का सिद्धान्त
  • अन्तः क्रिया का सिद्धान्त
  • निरन्तरता का सिद्धान्त
  • अन्तः सम्बन्ध का सिद्धान्त

उत्तर : 3

29. संविधान के किस संशोधन से शिक्षा एक मौलिक अधिकार बन गई है?

  • 25वें
  • 86वें
  • 22वें
  • 52वें

उत्तर : 2

30. अभिप्रेरणा के मूल प्रवत्ति सिद्धान्त के प्रतिपादक थे

  • अब्राह्म मैस्लो
  • मैक्डूगल
  • विलियम जैम्स
  • सिम्पसन

उत्तर : 2

आशा है आपको हमारे द्वारा दी गई यह जानकारी पसंद आई होगी, UPTET परीक्षा से जुड़ी हर जानकरियों हेतु सरकारी अलर्ट को बुकमार्क करें।

best-telegram-groups

Visit here for more information


Type and Ask Your Questions here OR Leave A Comment For Any Doubt And Query -

Leave a Reply

Your email address will not be published.



DISCLAIMER: SarkariResultWorld.Com does not have any connection with the Government and it does not represent any Government entity. No claim is made about the accuracy or validity of the content on this site, or its suitability for any specific purpose whatsoever whether express or implied. Since all readers who access any information on this web site are doing so voluntarily, and of their own accord, any outcome (decision or claim) of such access. All the Readers please also check details on the Original website before taking any decision. Here we are not responsible for any Inadvertent Error that may have crept in the information being published in this Website and for any loss to anybody or anything caused by any Shortcoming, Defect or Inaccuracy of the Information on this Application.